श्रद्धा-आयुषी हत्याकांड : यह कैसा प्यार... जिसमें अपने ही बन रहे कातिल



आफताब ने लिव इन में रह रही श्रद्धा की हत्या कर किए थे 35 टुकड़े, शव के साथ बैठकर खाना भी खाया, दूसरी ओर अपनी आन की खातिर पिता ने ही की आयुषी की हत्या, मां ने सूटकेस में पैक किया था शव

खबरिस्तान नेटवर्क। दिल्ली में श्रद्धा वालकर हत्याकांड की गुत्थी अभी तक सुलझी नहीं है कि आयुषी यादव की हत्या ने लोगों को झकझोर कर रख दिया है। नजाने ये कैसा प्यार है... जिसमें अपने ही कातिल की भूमिका निभा रहे हैं। श्रद्धा और आयुषी दोनों ही प्यार की बलि चढ़ गई हैं। एक को उसके प्रेमी ने तो दूसरी को उसके ही बाप ने मौत के घाट उतार डाला है। दोनों ही वारदातों ने लोगों को स्तब्ध कर दिया है।

श्रद्धा जहां 27 साल, वहीं आयुषी महज 21 साल की थी। दोनों ही लड़कियों ने अपने सपने देखने शुरू ही किए थे। श्रद्धा का कत्ल उसके प्रेमी ने किया, जबकि दोनों ने ही साथ रहने का फैसला लिया था। आयुषी की जान उसके पिता ने ली, जिनकी उंगली पकड़कर वह चलना सीखी थी।

श्रद्धा वालकर हत्याकांड

27 वर्षीय श्रद्धा वालकर की हत्या के मामले में उस प्रेमी ने ही उसे बेइंतहा दर्द और रूह कांपा देने वाली मौत दी, जिसे उसने अपना सबकुछ सौंप दिया था। इसके बाद भी श्रद्धा की हत्या करते समय उसके हाथ-पांव न कांपे। इस मामले में पुलिस ने मुंबई निवासी आफताब अमीन पूनावाला (28) को श्रद्धा के पिता की शिकायत के बाद गिरफ्तार किया था। आफताब ने अपनी ही प्रेमिका श्रद्धा की हत्या कर उसके शव के 35 टुकड़े किए थे और रोज रात दो बजे इन टुकड़ों को जंगल में फेंक आता था।

हत्या के बाद नेटफ्लिक्स पर देखी फिल्म

आरोपी आफताब पूनावाला ने पूछताछ में कबूल किया है कि उसने श्रद्धा के सिर समेत शरीर के कई टुकड़ों को फ्रिज में पांच महीने से ज्यादा समय तक रखा था। सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से भी इसकी पुष्टि हुई है। शव के कुछ टुकड़े उसने हत्या करने के बाद ही फेंक दिए थे। जबकि श्रद्धा के शव को दो दिन घर में रखा था। एक दिन श्रद्धा का शव कमरे में ही पड़ा रहा था। शव के नजदीक बैठकर उसने खाना खाया था

रात आठ बजे श्रद्धा को उतारा था मौत के घाट


दक्षिण जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आफताब ने बताया है कि उसने श्रद्धा की रात आठ बजे हत्या की थी। श्रद्धा का शव एक दिन कमरे में पड़ा रहा। श्रद्धा की हत्या करने के बाद वह बीयर लेकर आया और खाना मंगाकर खाया। इसके बाद नेटफ्लिक्स पर पूरी रात फिल्म देखी थीं।

हत्या के अगले दिन बाथरूम में रखा था शव

अगले दिन उसने श्रद्धा के शव को बाथरूम में रख दिया था। शव एक दिन बाथरूम में पड़ा रहा। आरोपी ने पूछताछ में बताया है कि इसके बाद उसने श्रद्धा के शरीर के कुछ टुकड़े पॉलिथीन में पैक कर जंगल में फेंक दिए थे। श्रद्धा का सिर, धड़, पैरों के पंजे और हाथों की उंगुलियों को फ्रीजर में पॉलिथीन में पैककर रख दिया था। आरोपी का कहना है कि उसे इन शव के टुकड़ों को फेंकने का मौका नहीं मिला था। श्रद्धा की हत्या करने के बाद उसकी गुरुग्राम स्थित कॉल सेंटर में नौकरी लग गई थी। वह कॉल सेंटर में रात में नौकरी करता था। दिन में उसकी दिल्ली वाली महिला दोस्त आ जाती थी। इस कारण वह शव के टुकड़ों को फेंक नहीं पाया था।

 

अब बात करते हैं आयुषी हत्याकांड की

बीसीए की छात्रा आयुषी की उसके पिता ने ही गोली मारकर हत्या की, फिर उसके शव को यमुना एक्सप्रेस की सर्विस रोड पर ट्रॉली बैग में पैक कर फेंक दिया। इस मामले में घर वालों ने बेटी की गुमशुदगी भी दर्ज नहीं कराई थी। जब पुलिस मृत छात्रा के घर पहुंची तो उसका पिता वहां नहीं था। बाद में पुलिस ने उसे खोज लिया। रविवार देर रात पूछताछ में जब पिता ने बेटी की हत्या करने की बात कबूल की तो पुलिस के लिए हत्या से जुड़े साक्ष्य एकत्र करने में आसानी हो गई। देर रात ही पुलिस की टीम हत्या स्थल और लाश को ले जाने में इस्तेमाल की गई कार, जिस हथियार से गोली चलाई गई थी, उसे अपने कब्जे में लेने आदि कार्य में जुट गई।

18 नवंबर की सुबह यमुना एक्सप्रेस की सर्विस रोड पर कृषि अनुसंधान केंद्र के पास झाड़ियों में ट्रॉली बैग मिला था। ट्रॉली बैग में युवती की लाश थी। इसके 48 घंटे में ही पुलिस मृतका के घर तक पहुंच गई। मृतका की पहचान रविवार की देर शाम मां और भाई ने की। इसी कारण दिल्ली के मोड़ बंद से पिता, भाई और मां को पुलिस टीमें साथ लेकर आईं, लेकिन पिता को पोस्टमार्टम गृह तक नहीं लाई। केवल निजी कार में थाना राया के प्रभारी निरीक्षक ओम हरि वाजपेयी, एसआई विनय कुमार और एक सिपाही के साथ केवल बृजबाला और भाई आयुष को ही लाया गया।

17 नवंबर को लापता हो गई थी आयुषी

खास बात यह भी है कि आयुषी 17 नवंबर को ही लापता हो गई थी, इसकी कहीं भी गुमशुदगी दर्ज नहीं कराई गई थी। वहीं, हत्या के बाद पिता भी घर से कहीं चला गया था। अनुमान है कि पुलिस आज इस पूरे घटनाक्रम से सब पहुलओं से पर्दा उठाएगी।

आयुषी का शव देख फूट-फूटकर रोए भाई और मां

पोस्टमार्टम गृह पर राया पुलिस के साथ पहुंची मां और भाई ने चेहरा ढक रखा था। जैसे ही पोस्टमार्टम गृह के अंदर कमरे में जाते ही पुलिस ने फीजर को खोला तो लाश देखते ही मां और भाई बिलख पड़े। जोर-जोर से बिलखते हुए मां और बेटे एक दूसरे के गले लग गए। 10 मिनट बाद दोनों बाहर आए।

आयुषी के पिता नीतीश मूल रूप से गोरखपुर जिले के गांव सुनारी का रहने वाला है। वह कई वर्षों से दिल्ली के गांव मोड़ बंद में परिवार के साथ रह रहा है। नीतीश की इलेक्ट्रॉनिक की दुकान है। वहीं आयुषी बीसीए की छात्रा थी। सूत्रों के अनुसार, आयुषी की हत्या 17 नवंबर दोपहर को ही कर दी गई थी। इसके बाद उसके शव को घर पर ही रखा गया। यह सबकुछ परिवार के अन्य सदस्यों के सामने ही हुआ। रात का इंतजार किया गया और पिता ट्रॉली बैग में बेटी की लाश लेकर यमुना एक्सप्रेसवे की तरफ निकला। रास्ते में लाश फेंकने का मौका नहीं मिला। मथुरा के राया आकर उसने बैग को देर रात फेंक दिया। 18 नवंबर को सुबह 11:00 बजे पुलिस को सूचना मिली थी कि यमुना एक्सप्रेस वे किनारे बैग पड़ा है, जिसमें से खून रिस रहा है।

पिता ने लाइसेंसी रिवाल्वर से मारी थी गोलियां

नितेश यादव ने आन की खातिर आयुषी की दो गोलियां मारकर हत्या की थी। हत्या में उसकी पत्नी ब्रजबाला भी शामिल रही। हत्या की वजह मां और पिता को बिना बताए शादी करना है। युवती ने साथ पढ़ रहे छात्र छत्रपाल गुर्जर निवासी भरतपुर राजस्थान से आर्य समाज मंदिर में करीब एक साल पहले शादी कर ली थी। बार-बार छुपकर उससे मिलती थी। टोकने पर भी बात न मानने पर भी मां-बाप ने इस हत्याकांड को अंजाम दिया।

शादी की बात पर आयुषी का मां से झगड़ा भी हुआ था। इसके बाद मां ने पिता को इसकी सूचना दी। घर आए पिता ने आयुषी को समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं मानी। इसके बाद आवेश में आकर पिता ने लाइसेंसी रिवाल्वर से उसको दो गोली मार दी थीं। पुलिस को छानबीन में आयुषी का मैरिज सर्टिफिकेट मिल गया। इसे पुलिस ने बरामद किया है। आयुषी पढ़ने में होशियार थी। हाल ही में उसने नीट भी पास कर ली थी, लेकिन वह काउंसिलिंग में नहीं गई। माता-पिता ने काउंसिलिंग में शामिल होने के लिए काफी समझाया लेकिन वह नहीं मानी। पिता ने बताया कि वह हर बात पर परिवार का विरोध करने लगी थी।

Related Tags


Shraddha Ayushi murder case love murderers aftab shrdha walker crime news khabristan

Related Links


webkhabristan