छात्रा दुष्कर्म व हत्या  मामले में नीलू दोषी करार, 11 मई को सुनाई जाएगी सजा



ऑनलाइन जुड़ा था नीलू, आठ मिनट में सुनाया कोर्ट ने फैसला

वेब खबरिस्तान। शिमला  में कोटखाई के बहुचर्चित छात्रा दुष्कर्म व हत्या मामले में बुधवार को जिला एवं सत्र न्यायालय ने आरोपी नीलू उर्फ अनिल को दोषी करार दिया है। सजा 11 मई को सुनाई जाएगी। न्यायाधीश राजीव भारद्वाज की स्पेशल कोर्ट ने सुनवाई 16 अप्रैल को पूरी कर ली थी। 

बुधवार दोपहर दो बजकर 53 मिनट पर सुनवाई शुरू हुई। आठ मिनट में न्यायालय ने नीलू को दोषी करार दे दिया। नीलू कंडा जेल से ऑनलाइन जुड़ा था। न्यायाधीश ने नीलू से कहा कि उसे हत्या व दुष्कर्म का दोषी माना जाता है। हालांकि नीलू इन्कार करता रहा। अब नीलू की सजा पर फैसला 11 मई को बहस के बाद सुनाया जाएगा। मामले में आरोपित को सरकार की ओर से लीगल एड सेवा ने वकील नियुक्त किया है। जिला अदालत में इस मामले को किसी भी वकील ने न लडऩे का फैसला लिया था।


 

2017 का मामला

चार जुलाई, 2017 को कोटखाई की छात्रा स्कूल से लौटते वक्त लापता हो गई थी। छह जुलाई को कोटखाई के जंगल में उसका शव मिला था। मामले में छह आरोपी पकड़े गए थे। आरोपी सूरज की कोटखाई थाने में 18 जुलाई 2017 की रात हत्या कर दी गई थी। पुलिस का आरोप है कि राजू की सूरज से बहस हुई और राजू ने उसकी हत्या कर दी। हालांकि बाद में मामले में नया मोड़ आया था और सीबीआइ ने पुलिस की ओर से आरोपी बनाए गए लोगों को क्लीनचिट दे दी थी। अप्रैल 2018 को नीलू को हिरासत में लिया था। मामले में सीबीआइ ने 55 गवाहों के बयान दर्ज किए हैं। 

 

Related Links