विदेशी सट्टे के लिए गुजरात के एक शख्स ने नकली IPL करवाया, मजदूरों को पहनाई असली टीमों की जर्सियां

मैच असली दिखें, इसके लिए आरोपियों ने मैदान में फ्लड लाइट्स लगाईं

मैच असली दिखें, इसके लिए आरोपियों ने मैदान में फ्लड लाइट्स लगाईं



वेब खबरिस्तान। सट्टे से तगड़ी रकम कमाने के लालच में गुजरात के एक शख्स ने नकली IPL ही करा डाला। रूस में बैठे लोग इस पर सट्टा भी लगा रहे थे। बता दें कि इस टूर्नामेंट में खिलाड़ी, टीम और अंपायर तक नकली थे। यहां तक कि स्टेडियम में बैठे दर्शकों की आवाज भी इंटरनेट से डाउनलोड की गई थी। यूट्यूब पर इसकी लाइव स्ट्रीमिंग की जा रही थी। सब कुछ इतनी सफाई से किया गया कि रूसी सट्टेबाजों ने इसे ही असली टूर्नामेंट मान लिया।

हर मजदूर को एक मैच के मिलते थे 400 रूपए 

नकली IPL में टीमों के नाम, जर्सी, कमेंटेटर और खिलाड़ी असली टूर्नामेंट की तरह ही पेश किए गए थे। इस लीग में CSK, MI, GT जैसी टीमें शामिल थी। ये टीमें 21 मजदूर युवाओं को लेकर बनाई गई थीं। हर मजदूर को एक मैच खेलने के लिए 400 रुपए दिए जाते थे।


फॉर्म हाउस में फ्लड लाइट और कैमरे नकली IPL चलाने वाला गिरोह आज ही पकड़ाया। इससे पहले, वे क्वार्टर फाइनल तक के मैच करा चुके थे। पुलिस अधिकारी भावेश राठौड़ ने बताया कि इस फेक लीग का आयोजन मेहसाणा के वडनगर तालुका के मोलिप उर गांव में हो रहा था। शोएब ने गुलाम मसीह के खेत को किराए पर लिया, उसे क्रिकेट मैदान में बदला।

मैच असली दिखें, इसके लिए आरोपियों ने मैदान में फ्लड लाइट्स लगाईं। पांच HD कैमरे भी लगाए और अंपायरिंग के लिए वॉकी-टॉकी का इंतजाम किया। कमेंट्री के लिए मेरठ के एक व्यक्ति को लाया गया, जो मशहूर कमेंटेटर हर्षा भोगले की आवाज निकालने में माहिर था।

चार आरोपी किये गिरफ्तार 

पुलिस ने बताया कि बेटिंग के लिए मशहूर एक रूसी पब में 8 महीने काम करने के बाद मोलीपुर लौटे शोएब दावड़ा ने इस ठगी को अंजाम दिया। शोएब ने पुलिस को बताया कि रूसी पब में काम करने के दौरान उसकी मुलाकात आसिफ मोहम्मद से हुई थी, जो इस तरह की ठगी में माहिर था। आसिफ ने ही क्रिकेट की बारीकियों के बारे में बताया था।

पुलिस ने इस मामले में सोमवार को चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था, जबकि एक आरोपी अब भी फरार है।  

Related Tags


ipl ipl 2022 indian premier league betting russian betting

Related Links