मां अपने प्रेमी संग घर से भाग गई, 13 साल की बेटी ने फांसी लगाई

सिविल ले जाते समय रास्ते में ही वंशिका की मौत हो गई

सिविल ले जाते समय रास्ते में ही वंशिका की मौत हो गई



बच्ची ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली

वेब ख़बरिस्तान,सूरत।  सचिन इलाके में 13 साल की एक बच्ची ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। दरअसल वह अपने पिता से मां से फोन पर बात करवाने की जिद कर रही थी। लेकिन जब बात नहीं हो पाई तो उसने दुखी होकर खुदकुशी कर ली। नाबालिग की मां 5 महीने पहले सोशल मीडिया पर दोस्ती होने के बाद उसके साथ चली गई थी। बेटी पिता के साथ रहती थी। अक्सर वह मां को याद करके रोती थी। स्कूल से आने के बाद उसने मां से फोन पर बात करवाने की जिद की।

पिता ने बेटी का दाह संस्कार किया


पुलिस ने शव का पंचनामा करने के बाद सिविल में पोस्टमार्टम कराया और इसके बाद शव परिजनों को सौंप दिया। पिता ने बेटी का दाह संस्कार किया। पुलिस आगे जांच कर रही है। नाबालिग की आत्महत्या के लिए मां को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।

14 साल पहले प्रेम विवाह किया था

मूलरूप से पटना (बिहार) के नीलेश शर्मा पिछले 30 साल से साईं दर्शन सोसाइटी में रहते हैं। नीलेश शर्मा ने एमआरएफ टायर के शो रूम में नौकरी करने वाली बबली नामक युवती से 14 साल पहले प्रेम विवाह किया था। बबली से दो बच्चे वंशिका और वंश हैं। मगर बबली का एक साल पहले सोशल मीडिया पर अंकित दुबे नामक युवक से परिचय हुआ था। दोनों के काफी गहरे संबंध हो गए थे। बबली पांच महीने पहले घर से भाग गई। दोनों बच्चे नीलेश के साथ रह रहे थे। बच्चे अक्सर मां से मिलने और बात करने की जिद करते थे।

छठी क्लास में पढ़ती थी वंशिका

बबली एक सप्ताह पहले बच्चों से मिलने सूरत आई थी और फिर वापस चली गई। बुधवार को दोपहर में वंशिका स्कूल से आई और मां से बात करने की जिद करने लगी। नीलेश ने कहा कि मैं अपना मोबाइल नहीं दूंगा, दूसरे मोबाइल में सिमकार्ड लगाकर बात कर लो। इस से वंशिका नाराज हो गई और घर में फांसी लगा ली। नीलेश ने बेटी को फांसी लटका देखा तो एक परिचित की मदद से उसे नीचे उतारकर प्राइवेट अस्पताल में ले गया। वहां से सिविल में रेफर किया गया। सिविल ले जाते समय रास्ते में ही वंशिका की मौत हो गई। वह छठवीं कक्षा में पढ़ती थी।

Related Links