40 साल के आरोपी ने नाबालिग को जबरदस्ती किस किया, 3 साल की सजा

17 साल की बेटी अंदर वाले कमरे में सामान लेने गई

17 साल की बेटी अंदर वाले कमरे में सामान लेने गई



मामले में आरोपी को तीन साल की सजा सुनाई गई है

वेब ख़बरिस्तान,पाली। नाबालिग को घर में अकेला देख उसे जबरदस्ती किस करने के मामले में आरोपी को तीन साल की सजा सुनाई गई है। पॉक्सो एक्ट न्यायालय संख्या-1 पाली के विशिष्ठ न्यायाधीश प्रहलादराय शर्मा ने दोनों पक्षों के वकीलों की बहस के बाद दोषी मानते हुए यह सजा सुनाई।


विशिष्ठ लोक अभियोजक संदीप नेहरा ने बताया कि सुमेरपुर थाना क्षेत्र निवासी पीड़िता के पिता ने रिपोर्ट दी थी। इसमें बताया कि वह अपनी पत्नी के साथ अंबाजी दर्शन के लिए गया था। जबकि उसकी दो नाबालिग बेटियां घर पर ही थीं। वह घर में ही किराने की दुकान चलाता है। उनकी गैर मौजूदगी में सुमेरपुर निवासी 40 वर्षीय जयंतीलाल माली कोई सामान खरीदने के लिए उनके घर पहुंचा। उनकी बेटियों ने दरवाजा नहीं खोला और माता-पिता के आने पर सामान लेने आने की बात कही।

जरूरी सामान लेने के लिए घर में घुसा

आरोपी ने माता-पिता से फोन पर बात की और कहा कि जरूरी सामान है। बच्चों से बोला की सामान दे दो। उनके कहने पर बेटियों ने घर का दरवाजा खोला। आरोपी अंदर चला गया। उसकी 17 साल की बेटी अंदर वाले कमरे में सामान लेने गई। इसके बाद आरोपी पीछे-पीछे कमरे में चला गया। जबरदस्ती नाबालिग को किस कर लिया। वे घर पहुंचे तो नाबालिग ने पूरी कहानी अपने परिजनों को बताई।

17 हजार का अर्थदंड भी लगाया

पुलिस ने मामले में चालान पेश कर न्यायालय के आदेश पर आरोपी को न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया। पॉक्सो एक्ट न्यायालय संख्या-1 पाली के विशिष्ठ न्यायाधीश प्रहलादराय शर्मा ने अभियुक्त सुमेरपुर निवासी 40 वर्षीय जयंतीलाल पुत्र चुन्नीलाल माली को दोषी मानते हुए 3 साल के कठोर कारावास और 17 हजार के अर्थदंड की सजा सुनाई।

Related Links