जुर्म

pubg game ने ली मां की जान बेटे ने मारी गोली जानें क्या है पूरा मामला

PUBG Game ने ली मां की जान, बेटे ने मारी गोली, जानें क्या है पूरा मामला

16 साल के नाबालिक लड़के ने गोली मार कर मां को मार डाला और 10 साल की बहन को कमरे में बंद कर दिया


करप्शन केस में गिरफ्तार आईएएस आफिसर पोपली के घर से मिला करोड़ों रुपए का सोना और चांदी

करप्शन केस में गिरफ्तार आईएएस आफिसर पोपली के घर से मिला करोड़ों रुपए का सोना और चांदी

खबरिस्तान नेटवर्क। करप्शन केस में पकड़े गए पंजाब के IAS अफसर संजय पोपली के घर से विजिलेंस ने बड़ी बरामदगी की है। सूत्रों के मुताबिक पोपली के घर से साढ़े 12 किलो सोना मिला है। भास्कर डाट काम के मुताबिक घर से सोने की एक किलो वाली 9 ईंटें, सोने के 3.16 किलो के 49 बिस्कुट और 356 ग्राम के 12 सोने के सिक्के मिले हैं। इसके अलावा चांदी की एक-एक किलो की 3 ईंटें भी मिली हैं। चांदी के 10-10 ग्राम के सिक्के भी बरामद हुए हैं। इसके अलावा 4 Iphone और 3.50 लाख रुपए कैश भी मिला है। पोपली के सेक्टर 11बी स्थित मकान नंबर 520 के स्टोर रूम में पड़े काले रंग के लेदर बैग में ये सबकुछ पड़ा हुआ था। इस बैग को छुपाकर रखा गया था। विजिलेंस की इसी कार्रवाई के दौरान ही पोपली के बेटे कार्तिक पोपली की गोली लगने से मौत हो गई। विजिलेंस अफसरों का कहना है कि कार्तिक ने खुद को गोली मारी है। 1% कमीशन मांगने पर हुई थी गिरफ्तारी संजय पोपली ने करनाल के ठेकेदार से नवांशहर में 7.30 करोड़ के सीवरेज प्रोजेक्ट में 1% कमीशन मांगा था। ठेकेदार ने विभाग के सुपरिटेंडिंग इंजीनियर संजय वत्स के जरिए 3.50 लाख दे दिए। इसके बाद पोपली का सीवरेज बोर्ड के CEO पद से तबादला हो गया। इसके बावजूद वह बाकी 3.50 लाख रुपए का दबाव डालने लगे। जिसकी रिकॉर्डिंग कर ठेकेदार ने सीएम हेल्पलाइन पर कंप्लेंट कर दी। जिसके बाद पोपली को चंडीगढ़ से गिरफ्तार कर लिया गया। संजय पोपली की गिरफ्तारी के बाद विजिलेंस ने उनके चंडीगढ़ के सेक्टर 11 स्थित घर की तलाशी ली। वहां से 73 कारतूस मिले। इनमें 7.65MM के 41, .32 बोर के 2 और .22 बोर के 30 कारतूस भी शामिल हैं। जिस वजह से पोपली पर आर्म्स एक्ट का केस दर्ज कर लिया गया है। एक और ठेकेदार ने दी शिकायत करनाल के ठेकेदार ने भी मोरिंडा और तलवाड़ा में 16 लाख के काम के बदले उनसे 5 लाख की रिश्वत मांगने की शिकायत दी थी। उन्हें झूठे केस में फंसाने की धमकी तक दी गई। इस मामले में भी पोपली से विजिलेंस पूछताछ करेगी।

https://webkhabristan.com/crime/gold-and-silver-worth-crores-found-in-house-of-ias-officer-sanjay-popli-10183
लॉरेंस बिश्नोई को 27 तक पुलिस रिमांड पर भेजा, फौजी ने किए कई खुलासे

लॉरेंस बिश्नोई को 27 तक पुलिस रिमांड पर भेजा, फौजी ने किए कई खुलासे

खबरिस्तान नेटवर्क। पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में पुलिस रिमांड पर चल रहे लॉरेंस बिश्नोई का पुलिस रिमांड कोर्ट ने बढ़ा दिया है। गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को मानसा कोर्ट में पेश किया गया है लॉरेंस बिश्नोई का कोर्ट में पेश करने से पहले मेडिकल करवाया गया। पंजाब पुलिस की ओर से लॉरेंस बिश्नोई का दस दिन का रिमांड मांगा गया था। मानसा कोर्ट ने लॉरेंस बिश्नोई को 27 जून तक पुलिस रिमांड में भेजा है। लॉरेंस से पूछताछ में कई खुलासे लॉरेंस को खरड़ पुलिस कड़ी सुरक्षा में बुलेटप्रूफ गाड़ी में ले कर आई। लॉरेंस को पंजाब पुलिस तिहाड़ जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लाई है। इससे पहले मानसा कोर्ट से उसका 7 दिन का रिमांड मिला था। पुलिस सिर्फ 2 गैंगस्टरों के नाम और गोल्डी बराड़ के ठिकाने का ही पता उगलवा सकी है। उधर, दिल्ली में पकड़े शार्प शूटर्स से पूछताछ में बड़ा खुलासा हुआ है। मूसेवाला की हत्या में इस्तेमाल हुए हथियार पाकिस्तान से ड्रोन के जरिए आए थे। ये हथियार मूसेवाला की हत्या में शार्प शूटर्स को लीड करने वाले प्रियवर्त फौजी तक पहुंचाए गए थे। फौजी समेत तीन हुए थे गिरफ्तार दिल्ली पुलिस ने कल गुजरात के मुंद्रा पोर्ट के नजदीक से मूसेवाला को मारने वाले शार्प शूटर प्रियवर्त फौजी और कशिश को अरेस्ट किया था। उनके साथ भागने में मदद करने वाला केशव भी पकड़ा गया है। दिल्ली पुलिस ने कल गुजरात के मुंद्रा पोर्ट के नजदीक से मूसेवाला को मारने वाले शार्प शूटर प्रियवर्त फौजी और कशिश को अरेस्ट किया। उनके साथ भागने में मदद करने वाला केशव भी पकड़ा गया। ड्रोन के जरिए हथियार मिले शार्प शूटर प्रियवर्त फौजी को ड्रोन के जरिए हथियार दिए गए थे। फौजी ने यह भी बताया कि कत्लकांड में पकड़े मोनू डागर के जरिए वह गोल्डी बराड़ के टच में आया था। '2 दिन पहले भी थी प्लानिंग, शूटर्स तैयार नहीं थे दिल्ली पुलिस की पूछताछ में शार्प शूटर्स ने खुलासा किया है कि 27 मई को भी मूसेवाला बिना सिक्योरिटी के गाड़ी में बाहर निकला था। वह उसी वक्त मूसेवाला पर हमला करना चाहते थे लेकिन शूटर्स तैयार नहीं थे। जिस वजह से ये प्लान फेल हो गया। इससे पहले एक कबड्‌डी टूर्नामेंट के दौरान भी मूसेवाला की हत्या की प्लानिंग थी। वह भी सिरे नहीं चढ़ सकी।

https://webkhabristan.com/crime/lawrence-bishnoi-sent-police-remand-till-monday--fauji-made-many-revelations-10071
अगर मूसेवाला बुलेटप्रूफ गाड़ी में होता तो ग्रेनेड से हमले की थी तैयारी

अगर मूसेवाला बुलेटप्रूफ गाड़ी में होता तो ग्रेनेड से हमले की थी तैयारी

खबरिस्तान नेटवर्क। हत्या के दिन सिद्धू अगर उस दिन बुलेट प्रूफ गाड़ी में भी होता तो हत्यारों ने ग्रेनेड से हमला करना था। हत्यारे पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला को हर हाल में जान से मारना चाहते थे। छह बार रेकी में हमलावर असफल रहे तो इस बार उन्होंने पुलिस की वर्दियां भी खरीदीं थीं। ये खुलासा हुआ है शार्प शूटर प्रियवर्त फौजी और कशिश की गिरफ्तार के बाद। दोनों को दिल्ली पुलिस ने गुजरात के मुंद्रा पोर्ट से गिरफ्तार किया है। दोनों दोनों अपने तीसरे साथी केशव के साथ किराए के मकान में छिपे हुए थे। हरियाणा के सोनीपत जिले के गढ़ी सिसाना का रहने वाला फौजी सारे प्लान को लीड कर रहा था। केशव उर्फ कुलदीप हरियाणा के झज्जर जिले के गांव बेरी का रहने वाला है। उसके खिलाफ झज्जर में 2021 में मर्डर केस दर्ज है। कशिश बठिंडा का रहने वाला है। पुलिस की वर्दी भी ले रखी थी दिल्ली पुलिस के मुताबिक मूसेवाला की हत्या में कुल 6 शार्प शूटर्स शामिल थे। जो कोरोला और बोलेरो में सवार होकर आए थे। अगर हथियार फेल हो जाते या मौके पर कोई खतरा होता तो शार्प शूटर्स ने मूसेवाला पर ग्रेनेड अटैक की भी प्लानिंग कर रखी थी। शूटर्स ने पुलिस की वर्दी भी ले रखी थी। हालांकि, नेम प्लेट न होने की वजह से उन्होंने वर्दी नहीं पहनी थी। मूसेवाला की हत्या के बाद शार्प शूटर्स ने गोल्डी बराड़ को कॉल कर कहा कि काम हो गया। दिल्ली पुलिस के स्पेशल पुलिस कमिश्नर के एचजीएस धालीवाल ने बताया कि हत्या को अंजाम देने के लिए 2 टीमें एक्टिव थी। दोनों कनाडा बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ के टच में थी। बोलेरो को कशिश चला रहा था। उस टीम का हेड प्रियवर्त फौजी था। उसके साथ अंकित सेरसा और दीपक मुंडी शामिल था। कोरोला गाड़ी को जगरूप रूपा चला रहा था। मनप्रीत मन्नू उसके साथ था। पहले AK47 से मारी गोलियां पहले मोगा के बदमाश मनप्रीत मन्नू ने AK47 से फायर किया। गोली मूसेवाला को लगी। मूसेवाला की थार रुक गई। फिर शूटर कोरोला से उतरे और बोलेरो से भी 4 शूटर उतरे। सभी ने तोबड़तोड़ फायरिंग की। जब लगा कि अब मूसेवाला बच नहीं पाएगा तो सभी फरार हो गए। वारदात के बाद मन्नू और रूपा अलग चले गए। बाकी 4 लोग बोलेरो में चले गए। इन्हें कुछ किलोमीटर के बाद केशव ने अपनी गाड़ी में बैठाया। वहां से फतेहाबाद पहुंचे। कुछ दिन वहां रुकने के बाद आगे निकले। कई जगह पर छिपते रहे। 19 जून को सुबह के वक्त दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इन्हें खारी मिट्‌ठी रोड मुंद्रा पोर्ट के पास गिरफ्तार किया है। उन्होंने किसी लोकल डीलर के जरिए किराए का मकान ले रखा था। आठ ग्रेनेड बरामद दिल्ली पुलिस के मुताबिक आरोपियों से 8 हाई एक्सप्लोसिव ग्रेनेड, अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर बरामद किए गए हैं। इसे AK47 पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। एक असॉल्ट राइफल, 3 पिस्टल, 36 राउंड कारतूस, AK सीरीज असॉल्ट राइफल का एक पार्ट भी मिला है। प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा 25 मई को हरियाणा में बीसला पेट्रोल पंप पर नजर आए थे। इसी पंप की तेल वाली पर्ची से इनकी शिनाख्त हुई थी, जो वारदात कर फरार होने के बाद उनकी बोलेरो से बरामद हुई थी। 29 मई को की थी मूसेवाला की हत्या पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को शाम साढ़े 5 बजे मानसा के गांव जवाहरके में हत्या कर दी गई थी। मूसेवाला पर करीब 40 राउंड फायर किए गए। मूसेवाला के शरीर पर 19 जख्म मिले थे। इनमें 7 गोलियां सीधी मूसेवाला को लगी थीं। गोली लगने के 15 मिनट के भीतर मूसेवाला की मौत हो गई थी। बोलेरो और कोरोला गाड़ी से पीछा कर थार जीप से जा रहे मूसेवाला की हत्या की गई। उस वक्त मूसेवाला के साथ गनमैन नहीं थे। पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की इसी थार जीप में गोलियां मारकर हत्या की गई थी। यह जीप बुलेटप्रूफ नहीं थी। हत्या के वक्त उनके गनमैन भी साथ नहीं थे। अब तक 11 गिरफ्तार मूसेवाला हत्याकांड के मामले में पंजाब पुलिस अब तक 11 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। जिनमें शार्प शूटर्स को कोरोला गाड़ी देने वाला मनप्रीत भाऊ, गैंगस्टर मनप्रीत मन्ना और सराज मिंटू, प्रभदीप सिद्धू उर्फ पब्बी, मोनू डागर, पवन बिश्नोई, नसीब खान, मनमोहन सिंह मोहना और मूसेवाला की फैन बनकर रेकी करने वाला संदीप केकड़ा भी शामिल हैं।

https://webkhabristan.com/crime/if-musewala-was-in-a-bulletproof-vehicle-preparations-for-a-grenade-attack-10038
शहर के नामचीन परिवार की बेटी ने पति को गर्लफेंड के साथ होटल के कमरे में धर दबोचा

शहर के नामचीन परिवार की बेटी ने पति को गर्लफेंड के साथ होटल के कमरे में धर दबोचा

खबरिस्तान नेटवर्क। जालंधर शहर के व्हाट्सएप ग्रुपों में कुछ वीडियो वायरल हो रही हैं, जिसमें एक महिला एक व्यक्ति को किसी गैर औरत के साथ बातचीत करते दिखाई दे रही है। बताया जा रहा है कि ये वीडियो बनाने वाली लड़की शहर के नामचीन परिवार की बेटी है, जिसका पति उसे धोखा देकर किसी लड़की के साथ पिछले कुछ महीने से अफेयर में था। शहर के बड़े घरानों में शुमार परिवार की बेटी ने खुद के साथ धोखा होता देख पति को तब जाकर धर दबौचा जब वह उस लड़की के साथ होटल के कमरे में था। इसके बाद उसने मौके की वीडियोग्राफी शुरू कर दी। उसका पति उसके सवालों के जवाब नहीं दे सका और शर्मिंदा होकर उसके साथ होटल में आई लड़की की वीडियो न बनाने के लिए कहता रहा। बाद में वह बेड पर सिर नीचे करके बैठा रहा। लड़की के साथ इंस्टा पर वीडियो पत्नी को कमरे से एक फोन मिला जिसमें उसके पति और होटल में साथ आई लड़की की वीडियो भी थी। पत्नी वीडियो में ये इंस्टा वीडियो भी दिखा रही है। वह वीडियो में कह रही है कि कि मैं फोन नहीं दूंगी। अब पकड़ा गया है बताए सबकुछ। इस पर कमरे मौजूद किसी शख्स की आवाज आती है कि पकड़ा गया तो पकड़ा गया। पहली बार कोई आदमी पकड़ा गया है। होटल के कमरे में टेबल पर कुछ कैश भी पड़ा हुआ था। वीडियो किस शहर की है ये क्लियर नहीं हो सका है।

https://webkhabristan.com/crime/daughter-of-famous-family-of-city-caught-husband-in-hotel-room-with-girlfriend-10000
गाड़ियां बुलेट प्रूफ करने वाली इंडस्ट्री के मालिक सोबती ने कहा - रेकी करने जालंधर नहीं आए थे सिद्धू मूसेवाला को मारने वाले शूटर्स

गाड़ियां बुलेट प्रूफ करने वाली इंडस्ट्री के मालिक सोबती ने कहा - रेकी करने जालंधर नहीं आए थे सिद्धू मूसेवाला को मारने वाले शूटर्स

खबरिस्तान नेटवर्क। पंजाब के मानसा जिले में मशहूर पंजाबी गायक वह कांग्रेसी नेता सिद्धू मूसेवाला की लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ गैंग के शूटरों ने गोलियां मारकर हत्या कर दी थी। बता दें कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में जालंधर में बुलेट प्रूफ गाड़ियां बनाने वाली इंडस्ट्री मैं हत्या से पहले शूटर्स की आने की बात कही गई थी। उन खबरों को बेबुनियाद बताते हुए लग्गर इंडस्ट्रीज के मालिक संचित सोबती ने कहा कि उनकी फैक्ट्री में किसी को आने की आज्ञा नहीं दी जाती और मीडिया द्वारा जो खबरें चलाई गईं वह जानकारी बिल्कुल गलत है। जानकारी जुटाने में जुटा मीडिया पंजाब में मशहूर पंजाबी गायक सिद्दू मूसेवाला के हत्याकांड के बाद लगातार पुलिस एक तरफ जहां अपराधियों को धरपकड़ में लगी है वहीं 2 दिन पहले दिल्ली से लाकर मानसा की माननीय अदालत से 7 दिन का पुलिस रिमांड हासिल कर कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई से पूछताछ कर रही है। वहीं मीडिया लगातार हाई प्रोफाइल हत्याकांड पर नजरें जमा कर बैठी है और एक से एक जानकारी निकालने में जुटी है। लॉरेंस बिश्नोई से पुलिस पूछताछ को लेकर निजी चैनल और एक अखबार ने पंजाब के जालंधर में बुलेट प्रूफ गाड़ियां बनाने वाली लग्गर इंडस्ट्री को लेकर खबरें चलाईँ थी, जिसके मुताबिक सिद्धू मूसेवाला की हत्या करने से पहले शूटरों द्वारा फैक्ट्री में आकर जानकारी लेने के बात कही गई। फैक्ट्री में ऐसे किसी को नहीं आने देते लग्गर इंडस्ट्री के मालिक संचित सोबती ने कहा कि जो जानकारी दी जा रही है बिल्कुल बेबुनियाद है और सरासर गलत है। न ही उनके पास कोई आया था और न ही वह अपनी फैक्ट्री में ऐसे किसी को आने देते हैं। उनके ग्राहक पूरे देश भर में हैं और बुलेटप्रूफ गाड़ियों की जानकारी उनकी वेबसाइट पर पहले से ही मौजूद है। ऐसे में कोई ग्राहक उनसे अपनी गाड़ी बनाता है तो उनसे फोन पर बात होती है न कि उन्हें यहां बुलाया जाता है। जहां तक गाड़ी की जानकारी की बात है तो बता दें कि यहां प्रकार के मॉडल की कारों को बुलेटप्रूफ बनाया जाता है जिसकी जानकारी वह सिर्फ उन्हीं को देते हैं जो ग्राहक गाड़ियां बुलेट प्रूफ करवाते हैं। ऐसे में उनके खिलाफ जो खबरें मीडिया द्वारा चलाई जा रही हैं वह सरासर गलत हैं और उनका कोई आधार नहीं है। ऐसे गलत रिपोर्ट मीडिया को नहीं दिखानी चाहिए जो सच नहीं है उसके बारे में झूठी अफवाह नहीं फैलानी चाहिए।

https://webkhabristan.com/crime/musewalas-killer-did-not-come-to-jalandhar-to-do-recce-bullet-proof-industry-9954
लॉरेंस की गैंग ने मूसेवाला को मारकर मिद्दूखेड़ा की हत्या का बदला लिया

लॉरेंस की गैंग ने मूसेवाला को मारकर मिद्दूखेड़ा की हत्या का बदला लिया

खबरिस्तान नेटवर्क। पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या विक्की मिद्दूखेड़ा की हत्या का बदला था। ये खुलासा लॉरेंस बिश्नोई ने पुलिस पूछताछ में किया है। उसने कहा कि पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला से उनके गैंग ने प्रोटेक्शन मनी नहीं मांगी थी। विक्की लॉरेंस का कॉलेज फ्रैंड था। लॉरेंस ने कहा कि मूसेवाला के कत्ल की कोई तारीख तय नहीं थी। लॉरेंस ने बताया कि उसे हत्या के बाद ही पता चला कि मूसेवाला को मार दिया गया है। लॉरेंस अभी भी इस हत्याकांड में अपनी भूमिका से इनकार कर रहा है। हालांकि पंजाब पुलिस ने स्पष्ट कर दिया कि मूसेवाला की हत्या लॉरेंस के कहने पर ही हुई है। वहीं लॉरेंस के कहने पर बिहार के गोपालगंज से गैंगस्टर मोहम्मद राजा को पंजाब पुलिस ने अरेस्ट किया है। उसे पंजाब लाया जा रहा है। मूसेवाला पर 2 तरह के शक लॉरेंस गैंग को विक्की मिद्दूखेड़ा के कत्ल के मामले में मूसेवाला पर 2 तरह के शक थे। पहला कि उसने हत्या करवाने वाले गैंग को फाइनेंशियली सपोर्ट किया और शार्प शूटर्स को मूसेवाला ने पनाह दी। मूसेवाला के मैनेजर शगुनप्रीत का नाम भी विक्की की हत्या में आया था। इसकी भनक लगते ही शगुनप्रीत ऑस्ट्रेलिया भाग गया। लॉरेंस गैंग को शक है कि शगुनप्रीत मूसेवाला का बहुत करीबी था। उसी ने उसे ऑस्ट्रेलिया भगाया है। विक्की मिद्दूखेड़ा की मोहाली में गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी। इसके पीछे बंबीहा गैंग से जुड़े शार्प शूटर गैंगस्टर कौशल चौधरी का नाम सामने आया था। लॉरेंग गैंग को यकीन था कि मूसेवाला दविंदर बंबीहा गैंग से जुड़ा है। वह अक्सर गीतों और उसमें हथियार दिखाकर हमें चैलेंज करता था। इस वजह से लॉरेंस गैंग ज्यादा तैश में आ गया। गोल्डी बराड़ से बात कर मुकरा जांच में पता चला था कि लॉरेंस ने मूसेवाला की हत्या से 2 महीने पहले तक कनाडा बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ से बात करता रहा। इसी दौरान हत्या की पूरी साजिश रची गई। हालांकि लॉरेंस इससे मुकर रहा है। लॉरेंस ने कहा कि तिहाड़ जेल में पूरी सख्ती है। इसलिए वह मोबाइल इस्तेमाल नहीं कर रहा था।

https://webkhabristan.com/crime/lawrences-gang-avenges-murder-of-middukheda-by-killing-moosewala-9949
PUBG वाले हत्याकांड की कहानी तो कुछ और ही निकली, गेम के लिए नहीं मारी थी मां

PUBG वाले हत्याकांड की कहानी तो कुछ और ही निकली, गेम के लिए नहीं मारी थी मां

खबरिस्तान नेटवर्क। बीते दिनों लखनऊ में साधना सिंह की हत्या की वजह का बेटे ने खुलासा किया है। उसके अनुसार वह एक बड़े बिल्डर के घर में आने-जाने से परेशान था। जबकि पुलिस ने कहा था बेटे ने मां को PUBG गेम की वजह से मार डाला था। बेटे ने कहा कि उसके पिता फौज में हैं। उसने पिता को मां की बिल्डर से दोस्ती के बारे में बताया भी था। दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक पिता ने कहा, 'मैं वहां होता तो बिल्डर और तुम्हारी मां, दोनों को गोली मार देता। अब जो तुम्हें समझ में आए वो करो।' पिता से मिले इस इशारे के बाद बेटे ने मां की हत्या का तानाबाना बुन लिया था। इस दौरान बिल्डर का घर में आना-जाना बना रहा। 4 जून की रात 16 साल के बेटे ने अपनी मां को गोली मारी थी। साधना के मर्डर के बाद बिल्डर पर आंच न आए, इसके लिए पुलिस ने PUBG की थ्योरी गढ़ी थी। हालांकि, बाल सुधार गृह में आरोपी बेटे से मुलाकात करके लौटे परिवार के एक सदस्य ने दैनिक भास्कर के सामने पूरी कहानी खोलकर रख दी। कॉल रिकॉर्डिंग से दोस्ती का खुलासा करीब एक साल पहले आरोपी बेटा अपने मामा के घर बनारस से लखनऊ वापस आया तो उसने मां साधना के मोबाइल में कुछ कॉल रिकार्डिंग सुनीं। जिसमें मां किसी शख्स से बात कर रही थी। बेटे को मां की उस व्यक्ति से नजदीकियों का अंदाजा लग गया था। उसने आसनसोल में पिता नवीन को फोन करके ये बातें बताई। एक रिकॉर्डिंग भी उन्हें बतौर सबूत भेजी। ये वो घटनाक्रम था। इसके बाद पिता और मां के बीच झगड़े शुरू हो गए। पति के सवालों का साधना जवाब नहीं दे पा रहीं थी। बिल्डर को डिनर पर बुलाया, रात भी रुका आरोप है कि इसके बाद साधना बेटे को घर में नौकर की तरह रखने लगी। झाड़ू, पोछा से लेकर कपड़े साफ करने तक का बोझ बेटे पर डाल दिया। बेटा सब कुछ झेलता रहा, क्योंकि पिता नवीन की पोस्टिंग बहुत दूर आसनसोल में थी। मां की ये हरकतें बेटे के दिल मे नफरत भरती गईं। बेटा ये सब पिता को फोन पर बताता रहा। मामले की हकीकत जानने के लिए नवीन ने कुछ महीने पहले बेटे और बेटी को एक रिश्तेदार के घर भेज दिया। साधना को अंदाजा नहीं हुआ कि ये उसकी परीक्षा चल रही है। बच्चों के जाने के बाद उसने उसी शाम बिल्डर को डिनर पर बुला लिया। रात में बिल्डर साधना के साथ ही रुका। साधना इस बात से बेखबर थी कि उस पर बेटे और पति दोनों की नजर है। इसके बाद साधना और नवीन के रिश्तों में दीवार खड़ी हो गई। बेटे के दिल में नफरत और बढ़ गई। बर्थडे गिफ्ट से शुरू हुई हत्या की प्लानिंग साधना को लेकर बाप-बेटे में प्लानिंग चल रही थी। इसी बीच अक्टूबर में बेटे का बर्थडे आ गया। इस दिन बिल्डर बड़ा गिफ्ट लेकर घर आया। ये एक और मौका था, जब नवीन और उनके बेटे का शक पक्का हो गया। उस रात नवीन का साधना से फोन पर झगड़ा हुआ। ये वो घटनाक्रम था, जब बाप और बेटे के दिमाग में साजिश की शुरुआत हुई। जिसके तहत साधना का कत्ल किया गया। पिता ने लखनऊ में पिस्टल चलाना सिखाया था मुलाकात करने पहुंचे रिश्तेदार ने जब बेटे से पूछा, 'पिस्टल चलाना कैसे सीखा?' उसने जवाब दिया, 'कुछ साल पहले पापा की पोस्टिंग राजस्थान में थी। तब सब वहीं रहते थे। हमारे क्वार्टर के पास फायरिंग रेंज थी। हर रोज रिहर्सल होता था। मैं फौजियों को गोली चलाते देखता था। जब हम लखनऊ आए तो पापा ने पिस्टल चलाना सिखाया था।' पापा को आना था, लेकिन टिकट ही नहीं मिला इस कहानी को आगे बढ़ाते हुए बेटे ने कहा, '3 जून को मां ने मुझे बहुत मारा था। मैंने पापा को फोन करके बताया। उसी दिन मैंने सोच लिया था कि मां को जिंदा नहीं रहना चाहिए। मैंने पापा को ये सब बताया। उन्होंने कुछ नहीं करने के लिए कहा। मैंने 4 जून की शाम तक उनका इंतजार किया। शाम को पापा का फोन आया। उन्होंने बताया कि ट्रेन का टिकट ही नहीं मिला। उसी रात मैंने मां के सिर में गोली मार दी।' क्या है मामला? बीते 8 जून को लखनऊ से ये खबर आई थी कि 16 साल के एक लड़के ने अपनी मां की गोली मारकर हत्या कर दी. इस हत्या के पीछे की वजह ये बताई जा रही है कि मां ने उसे पबजी खेलने से रोका था, जिसके बाद उसने उनका मर्डर कर दिया। पुलिस ने कहा था कि लड़के को PUBG की लत थी और उसकी मां खेलने से रोकती थी, जिसके कारण उसने अपने पिता की पिस्तौल से घटना को अंजाम दिया. हालांकि अभी तक इन वजहों की पुष्टि नहीं हुई है और जांच चल रही है।

https://webkhabristan.com/crime/story-of-pubg-massacre-turned-out-something-else-mother-did-not-kill-for-game-9943
मूसेवाला की हत्या के पीछे ये पांच नाम, भारत से बाहर रह रहे चार गैंगस्टर

मूसेवाला की हत्या के पीछे ये पांच नाम, भारत से बाहर रह रहे चार गैंगस्टर

खबरिस्तान नेटवर्क। पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या लॉरेंस गैंग के 5 गैंगस्टरों ने मिलकर की थी। लॉरेंस, गोल्डी बराड़, सचिन थापन, अनमोल बिश्नोई और बिक्रम बराड़ इस साजिश में शामिल थे। कनाडा बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ और दुबई बैठे गैंगस्टर विक्रम बराड़ ने इस साजिश को अंजाम दिया। अनमोल और सचिन ने अहम भूमिका निभाई। यह दोनों भी इस वक्त यूरोप में बताए जा रहे हैं। ये पांचों रेकी से लेकर हत्या तक शार्प शूटर्स को डायरेक्शन दे रहे थे। पंजाब पुलिस की लॉरेंस से हुई पूछताछ में ये खुलासा हुआ है। 4 शार्प शूटर की तलाश मूसेवाला हत्याकांड में 4 शार्प शूटर्स वांटेड हैं। हरियाणा के सोनीपत का प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा शामिल है। इनके नाम की पुष्टि मोनू डागर ने की है। उसी ने दोनों को इस हत्याकांड के लिए अरेंज किया था। बाकी 2 शार्प शूटर जगरूप सिंह रूपा अमृतसर और मोगा का मनु कुस्सा शामिल हैं। यूएसए से मंगवाई थी बुलेट प्रूफ जैकेट सिद्धू मूसेवाला को अपने ऊपर हमले की आशंका थी। इसीलिए उसने अमेरिका से बुलेट प्रूफ जैकेट मंगवाई थी। अमेरिका एक आर्म्स डीलर ने इस बात की पुष्टि की है। मूसेवाला लेवल थ्री हार्ड बुलेट जैकेट मंगवा रहे थे। ये जैकेट SLR की बुलेट को भी रोक लेती है। मूसेवाला ने कहा था कि उनका कोई दोस्त मिलेगा और ये जैकेट ले जाएगा। बुलेटप्रूफ फॉर्च्यूनर पर भी करना था हमला लॉरेंस गैंग मूसेवाला को बुलेटप्रूफ फॉर्च्यूनर पर भी हमला करना चाहता था। इसी कारण AN94 गन का इस्तेमाल हुआ। इस गन की गोलियां बुलेट प्रूफ ग्लास को तोड़ सकती हैं। सूत्रों के मुताबिक मूसेवाला की फॉर्च्यूनर किस लेवल की बुलेटप्रूफ है, इसका पता लगाने के लिए लॉरेंस के कुछ बदमाश जालंधर भी गए थे।

https://webkhabristan.com/crime/behind-murder-of-moosewala-these-five-names-four-gangsters-living-outside-india-9937
सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर दफनाए हथियार, गोल्डी बराड़ के जीजा से पूछताछ

सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर दफनाए हथियार, गोल्डी बराड़ के जीजा से पूछताछ

खबरिस्तान नेटवर्क। सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में बड़ा खुलासा हुआ है। मूसेवाला के कत्ल में इस्तेमाल हथियारों का पता चल गया है। ये हथियार मानसा से सटे पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर दफनाए गए हैं। हत्याकांड में पहले गिरफ्तार पवन बिश्नोई और नसीब खान से पूछताछ में मानसा पुलिस को यह पता चला है। हालांकि किस जगह पर दफनाए गए, इसके बारे में पड़ताल की जा रही है। सिद्धू मूसेवाला की हत्या के केस में पंजाब पुलिस को अहम सुराग मिला है। पुलिस होशियारपुर जेल से गैंगस्टर गुरप्रीत गोरा को खरड़ लेकर आई है। लॉरेंस बिश्नोई ने पूछताछ में गोरा का नाम लिया है। गोरा कैनेडा बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ का जीजा है। गुरप्रीत को होशियारपुर जेल से खरड़ पूछताछ के लिए लाया गया है। लारेंस कहां पता नहीं लॉरेंस कहां है, इसकी पुष्टि नहीं की जा सही है। उससे एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स मूसेवाला हत्याकांड में पूछताछ कर रही है। लॉरेंस के करीबी गोल्डी बराड़ के दो गुर्गों को भी पुलिस 2 जगहों पर लेकर गई है, जिनसे मूसेवाला हत्याकांड में इस्तेमाल वैपन रिकवर करवाए जा सकते हैं। सात दिन के रिमांड पर लॉरेंस मानसा कोर्ट ने लॉरेंस को 7 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा है। लॉरेंस को लेकर पंजाब पुलिस मंगलवार रात करीब साढ़े 8 बजे दिल्ली से निकली। पानीपत, सोनीपत और करनाल के रास्ते सुबह साढ़े 3 बजे पुलिस मानसा पहुंची।पुलिस ने सुबह 4 बजे उसका मेडिकल चेकअप कराया। सुबह साढ़े 4 बजे ही कोर्ट में पेश कर पुलिस ने उसका रिमांड ले लिया। उसे पूछताछ के लिए पहले मोहाली के खरड़ स्थित CIA स्टाफ ऑफिस लाया गया है। पहले यहां पूछताछ हुई। इसके बाद पुलिस के 2 काफिले अलग-अलग दिशा में निकल गए।

https://webkhabristan.com/crime/weapons-buried-on-punjab-haryana-border-after-sidhu-musewalas-murder-9894
लारेंस बिश्नोई की सुबह साढ़े चार बजे कोर्ट में पेशी; सात दिन का पुलिस रिमांड मिला, पूछताछ के लिए मोहाली ले गए

लारेंस बिश्नोई की सुबह साढ़े चार बजे कोर्ट में पेशी; सात दिन का पुलिस रिमांड मिला, पूछताछ के लिए मोहाली ले गए

खबरिस्तान नेटवर्क। सिद्धू मूसेवाला की हत्या के केस मे पंजाब पुलिस को लारेंस बिश्नोई का सात दिन का रिमांड मिला है। लारेंस को सुबह साढ़े चार बजे मानसा कोर्ट में पेश किया गया, जहां कोर्ट ने उसका सात दिन का पुलिस रिमांड मिला। लॉरेंस को लेकर पंजाब पुलिस रात करीब साढ़े 8 बजे दिल्ली से निकली। इसके बाद पानीपत, सोनीपत और करनाल के रास्ते सुबह साढ़े 3 बजे मानसा पहुंची। 4 बजे मानसा में मेडिकल कराया गया। साढ़े 4 बजे कोर्ट में पेश कर पुलिस ने उसका रिमांड ले लिया। उसे पूछताछ के लिए मोहाली के खरड़ स्थित CIA स्टाफ ऑफिस लाया जा रहा है। एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स (AGTF) उससे पूछताछ करेगी। 2 बुलेटप्रूफ गाड़ियां, पूरे रास्ते की वीडियोग्राफी की गई लॉरेंस के वकील ने फेक एनकाउंटर का खतरा बताया था। हालांकि पुलिस 2 बुलेटप्रूफ गाड़ियों में लॉरेंस को पंजाब ले आई। इस दौरान 50 अफसरों की टीम मौजूद रही। पंजाब में घुसते ही पूरा रूट सैनिटाइज कराया गया। पूरे रास्ते की वीडियोग्राफी की गई। अब लॉरेंस के आसपास कड़ा सुरक्षा घेरा है। खुलेगा मूसेवाला की हत्या राज पंजाबी सिंगर मूसेवाला की हत्या के 2 घंटे बाद कनाडा बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने हत्या की जिम्मेदारी ली थी। गोल्डी गैंगस्टर लॉरेंस का ही करीबी साथी है। इसलिए इसमें लॉरेंस की भूमिका तय मानी जा रही है। दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने भी दावा किया कि मूसेवाला की हत्या का मास्टरमाइंड लॉरेंस ही है। लॉरेंस के भांजे सचिन थापन ने भी कहा कि मूसेवाला को हमने मारा है। मूसेवाला से मोहाली में कत्ल किए लॉरेंस के कॉलेज फ्रैंड विक्की मिड्‌डूखेड़ा के कत्ल का बदला लिया गया है।

https://webkhabristan.com/crime/court-appearance-of-lawrence-bishnoi-at-430-am-got-seven-days-police-remand-9862